top of page
  • लेखक की तस्वीरIPI NEWS DESK

नींद का हमारे जीवन में उद्देश्य, और क्या है इसके स्वास्थ्य संबंधी पहलू ?

नींद का हमारे जीवन में उद्देश्य

नींद हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण पहलू है, जो अच्छे स्वास्थ्य और भले-भावना बनाए रखने के लिए आवश्यक है। जैसा कि हमें भोजन और पानी की आवश्यकता है जीवित रहने के लिए, ठीक उसी तरह, नींद भी उतना ही महत्वपूर्ण है। लगभग हमारे समय का एक-तिहाई हिस्सा नींद में बितता है, जो हमारी दैनिक दिनचर्या में इसके महत्व को दर्शाता है।


नींद के दौरान, हमारे शरीर और मस्तिष्क के लिए कई जीवाणुकीय गतिविधियाँ होती हैं, जो हमारे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण कार्यों का सेवन करती है। सबसे पहले, मस्तिष्क नई जानकारी को संग्रहित करने और हानिकारक कचरे को हटाने जैसी प्रक्रियाओं से गुजरता है, जो मानसिक क्षमता और मानसिक स्पष्टता में सहायक होता है। इसके अलावा, तंत्रिका कोशिकाएँ संचार करती हैं और पुनर्व्यवस्थित होती हैं, जो समग्र मस्तिष्क स्वास्थ्य और कार्य को समर्थन करता है।


इसके अतिरिक्त, नींद शारीरिक कोशिकाओं की मरम्मत, ऊर्जा स्तर का पुनर्स्थापन, और हार्मोन और प्रोटीन जैसे आवश्यक मोलेक्यूलों का उत्सर्जन सुनिश्चित करती है। ये प्रक्रियाएँ समग्र स्वास्थ्य को बनाए रखने और हमारे शारीर को संपूर्णता से कार्य करने के लिए महत्वपूर्ण हैं।

पर्याप्त नींद प्राप्त करने की असमर्थता हमारे स्वास्थ्य और भले-भावना पर हानिकारक प्रभाव डाल सकती है। सही आराम के बिना, ये महत्वपूर्ण जीवाणुकीय प्रक्रियाएँ विघटित हो जाती हैं, जिससे मानसिक क्षमता में कमी, कमजोर इम्यून सिस्टम, और विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं के लिए अधिक प्रतिरोधशीलता होती है।

सारांश में, नींद मानव जीवन का एक मौलिक पहलू है, जो हमारे शारीर और मस्तिष्क को महत्वपूर्ण प्रक्रियाओं का सामना करने का अवसर देता है, जो समग्र स्वास्थ्य और कार्य के लिए आवश्यक हैं। नींद के महत्व को समझना हमारे स्वास्थ्य को परिपूर्ण बनाए रखने के लिए पर्याप्त आराम को महत्वपूर्ण बनाने की आवश्यकता


ऊर्जा संरक्षण


ऊर्जा संरक्षण के सिद्धांत के अनुसार, नींद का उद्देश्य ऊर्जा की संरक्षण करना होता है। नींद के दौरान हमारी उपजाऊ दर घट जाती है, जिससे हमारी कैलोरी की आवश्यकताएं कम हो जाती हैं और हम कम गतिविधि के स्तर पर काम कर सकते हैं।


अनुसंधान सुझाव देता है कि मनुष्यों को 8 घंटे की नींद लेने से एक दिन में 35 प्रतिशत तक की ऊर्जा बचत हो सकती है, जिसे सतत जागरत रहने के समान माना जाता है।


यह सिद्धांत प्रस्तावित करता है कि नींद का एक प्रमुख कार्य ऊर्जा खर्च को कम करना है, जब भोजन की खोज करना असुविधाजनक और कम प्रभावी होता है, चाहे दिन हो या रात।


कोशिकात्मक पुनर्जीवन


रिस्टोरेटिव सिद्धांत के अनुसार, शरीर को अपने आप को पुनर्स्थापित करने के लिए नींद की आवश्यकता होती है। इस सिद्धांत के अनुसार, नींद के दौरान कोशिकाएँ मरम्मत और पुनर्जीवन करती हैं, जिससे कुल शारीरिक उत्थान होता है। नींद के दौरान यह कई महत्वपूर्ण प्रक्रियाएं होती हैं, जो इस सिद्धांत को समर्थन करती हैं, जैसे कि:

  1. मांसपेशियों की मरम्मत: नींद मांसपेशियों को दिनभर की गतिविधियों के दौरान हुए किसी भी क्षति की मरम्मत करने का अवसर प्रदान करती है। यह पुनर्स्थापन प्रक्रिया मांसपेशियों की ताकत और कार्यक्षमता को बनाए रखने में मदद करती है।

  2. प्रोटीन सिंथेसिस: नींद प्रोटीन सिंथेसिस को संभावित करने के लिए महत्वपूर्ण होती है, जो शारीरिक ऊतकों को बनाने और मरम्मत करने में मदद करता है। यह प्रक्रिया विभिन्न शारीरिक ऊतकों की संरचनात्मक पूर्णता को बनाए रखने में मदद करती है।

  3. तंतु की वृद्धि: नींद ऊतकों की वृद्धि को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, जो कोशिकाओं की नवीनीकरण और पुनर्जीवन को संभावित करती है। यह शारीरिक संरचनाओं के कुल रखरखाव और मरम्मत में सहायक होता है।

  4. हार्मोन विकेंद्रन: नींद के दौरान विभिन्न हार्मोन उत्सर्जित होते हैं, जो अनिवार्य शारीरिक कार्यों को नियंत्रित करने में शामिल होते हैं। ये हार्मोन वृद्धि, अवशोषण, और प्रतिरोधक क्षमता में नियंत्रण में मदद करते हैं, जो समग्र स्वास्थ्य और विकास के लिए महत्वपूर्ण हैं।

सारांश में, रिस्टोरेटिव सिद्धांत ऊर्जा के संरक्षण और पुनर्स्थापन प्रक्रियाओं को समर्थित करने के लिए नींद की महत्वपूर्णता को उजागर करता है, जो कुल स्वास्थ्य और कार्यक्षमता को बनाए रखने के लिए आवश्यक है।


मस्तिष्क कार्य


मस्तिष्क प्लास्टिसिटी सिद्धांत के अनुसार, नींद मस्तिष्क के सही कार्य के लिए आवश्यक है। विशेष रूप से, यह आपके न्यूरॉन्स, यानी नस कोशिकाओं, को पुनर्व्यवस्थित करने की अनुमति देता है।


नींद के दौरान, आपके मस्तिष्क का ग्लाइम्फैटिक (कचरा स्पष्टीकरण) प्रणाली केंद्रीय तंत्रिका से कचरा स्वच्छ करता है। यह आपके मस्तिष्क से विषैले उत्पादों को हटाता है, जो दिनभर बढ़ते हैं। यह आपके मस्तिष्क को उठने पर अच्छी तरह से काम करने की अनुमति देता है।


अनुसंधान सुझाव देता है कि नींद स्मृति कार्य में सहायक होती है, संक्षिप्त स्मृतियों को दीर्घकालिक स्मृतियों में परिणामी रूप से परिवर्तित करके, साथ ही अनावश्यक जानकारी को मिटाने के द्वारा। जो अन्यथा तंत्रिका को अटका सकती है।


नींद कई मस्तिष्क कार्यों को प्रभावित करती है, जिसमें शामिल हैं:


1. सीखना: नींद नई जानकारी को एनकोड करने और संरचित करने के लिए महत्वपूर्ण होती है, सीखने की प्रक्रिया को बढ़ाती है।

2. स्मृति: नींद स्मृति संरचना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, जिससे सीखे गए जानकारी को याद रखा जा सकता है।

3. समस्या समाधान क्षमता: पर्याप्त नींद चिन्हित शारीरिक योग्यताओं, समस्या समाधान क्षमता और महत्वपूर्ण विचारशीलता को सुधारती है।

4. रचनात्मकता: नींद न्यूरॉनल कनेक्शन को बढ़ाती है और जानकारी को नवीन तरीके से प्रसंस्कृत करने में मदद करती है, रचनात्मकता को बढ़ाती है।

5. निर्णय लेना: गुणवत्ता नींद स्पष्टता और समझदारी को बढ़ाकर निर्णय लेने की क्षमता को सुधारती है।

6. ध्यान: पर्याप्त आराम ध्यान क्षमता और फोकस को बेहतर बनाने के लिए मदद करता है, कार्यों पर बेहतर ध्यान केंद्रित करने में मदद करता है।


सारांश में, नींद दिमाग के विभिन्न पहलुओं पर प्रभाव डालती है, जैसे कि सीखना, स्मृति, समस्या समाधान क्षमता, रचनात्मकता, निर्णय लेना, औ


हृदय स्वास्थ्य

जबकि सटीक कारण स्पष्ट नहीं हैं, वैज्ञानिक सोचते हैं कि नींद हृदय स्वास्थ्य का समर्थन करती है। यह हृदय रोग और खराब नींद के बीच के संबंध से उत्पन्न होता है।


रोग प्रतिरोध केंद्र और नियंत्रण (सीडीसी) कहते हैं कि सामान्य वयस्क को प्रतिरात्रि 7 घंटे की नींद की आवश्यकता होती है। इस से कम सोना नियमित रूप से स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है, जिसमें से कई आपके हृदय स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकते हैं।


नींद की कमी को हृदय रोग के जोखिम के कई कारकों से जोड़ा गया है, जिनमें निम्नलिखित शामिल हैं:


1. उच्च रक्तचाप: कम नींद लेना उच्च रक्तचाप के स्तर को बढ़ा सकता है, जो हृदय समस्याओं का जोखिम बढ़ा सकता है

2. बढ़ी हुई सिम्पाथेटिक तंत्रिका क्रिया: खराब नींद की आदतें सिम्पाथेटिक तंत्रिका की अधिक गतिविधि का परिणाम दे सकती है, जो हृदय के कार्य को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकती है।

3. अधिक गलन: नकारात्मक नींद के स्तर से बढ़ी हुई जलन के स्तर को जोड़ा गया है, जो हृदय रोग को बढ़ावा दे सकता है।

4. उच्च कॉर्टिसोल स्तर: नींद की कमी कॉर्टिसोल के उच्च स्तर को ले जा सकती है, एक तनाव हार्मोन जो, जब स्थायी रूप से बढ़ा हो, हृदय स्वास्थ्य को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है।

5. वजन बढ़ाना: नकारात्मक नींद के पैटर्न्स अक्सर वजन बढ़ने से जुड़े होते हैं, जो हृदय रोग का एक महत्वपूर्ण कारक है।

6. इंसुलिन प्रतिरोध: नींद की कमी इंसुलिन प्रतिरोध में योगदान कर सकती है, एक स्थिति जिसमें कोशिकाएं इंसुलिन के लिए सही तरीके से प्रतिक्रिया नहीं करती हैं, जो मधुमेह और हृदय रोग का खतरा बढ़ा सकती है।

सारांश में, पर्याप्त नींद की रखरखाव हृदय स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि नींद की कमी हृदय रोग से जुड़े कई जोखिम कारकों के साथ जुड़ी होती है।


नींद में क्या होता है?


नींद में क्या होता है?
नींद में क्या होता है?


जब आप सोते हैं, तो आपके शरीर में सामान्य स्वास्थ्य और विकल्पित बनाने के लिए आवश्यक विभिन्न शारीरिक प्रक्रियाएं होती हैं। ये प्रक्रियाएं सोने के चक्र के माध्यम से विभिन्न चरणों में होती हैं, जिसमें अक्सर गति बिना नेत्र चालन (एनआरईएम) नींद के और तेज नेत्र चालन (आरईएम) नींद के चरण शामिल होते हैं।


एनआरईएम नींद के दौरान, आपके शरीर का अवशोषण होता है, और आपके मस्तिष्क की लहरें धीमी होती हैं। यह चरण शारीरिक पुनर्स्थापन और मरम्मत के लिए महत्वपूर्ण होता है। यह आपके मांसपेशियों को आराम मिलने, आपके रक्तचाप कम होने, और आपकी सांसें धीमी और नियमित होने की अनुमति देता है। विशेष रूप से, एनआरईएम नींद के दौरान, आपके शरीर में वृद्धि हार्मोन उत्पन्न होते हैं, जो ऊतकों की मरम्मत और वृद्धि में मदद करते हैं।


जब आप आरईएम नींद में बदलते हैं, तो आपके मस्तिष्क अधिक सक्रिय होते हैं, और आपकी आंखें बंद पलकों के पीछे तेज आंखों के आंदोलन करती हैं। यह चरण संज्ञानात्मक पुनर्स्थापन और भावनात्मक प्रसंस्करण के लिए महत्वपूर्ण होता है। आरईएम नींद स्वप्न, स्मृति संघटन, और सीखने के साथ जुड़ी होती है। इसे दिन की जानकारी को प्रसंस्करण और एकीकरण करने के महत्वपूर्ण भूमिक दी जाती है, जो स्मृतियों को मजबूत करने और समस्याओं के हल को प्रोत्साहित करने में मदद करती है


आपको कितनी नींद की आवश्यकता है?



आपको कितनी नींद की आवश्यकता है?
आपको कितनी नींद की आवश्यकता है?


नींद की अनुशंसित मात्रा आपकी आयु पर निर्भर करती है। यह व्यक्ति से व्यक्ति भिन्न हो सकती है, लेकिन सीडीसी (केंद्रीय रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र) निम्नलिखित आयु के आधार पर निम्नलिखित अवधियों का सुझाव देता है:


1. जन्म से 3 महीने तक: इस आयु समूह के बच्चों को सामान्यत: प्रति दिन 14 से 17 घंटे की नींद की आवश्यकता होती है।


2. 4 से 12 महीने: 4 से 12 महीने की आयु के शिशुओं को लगभग 12 से 16 घंटे की नींद की जरूरत होती है, जिसमें नींद के समय सम्मिलित होते हैं।


3. 1 से 2 साल: 1 से 2 साल के टॉडलर्स को प्रतिदिन लगभग 11 से 14 घंटे की नींद की आवश्यकता होती है, जिसमें नींद के समय सम्मिलित होते हैं।


4. 3 से 5 साल: 3 से 5 साल के प्रीस्कूलर्स को प्रतिदिन लगभग 10 से 13 घंटे की नींद की आवश्यकता होती है, जिसमें नींद के समय सम्मिलित होते हैं।


5. 6 से 12 साल: 6 से 12 साल के बच्चों को लगभग 9 से 12 घंटे की नींद की आवश्यकता होती है।


6. 13 से 18 साल: 13 से 18 साल की आयुवर्ग के किशोरों को प्रतिदिन लगभग 8 से 10 घंटे की नींद की आवश्यकता होती है।


7. 18 से 60 साल: 18 से 60 साल की उम्र के वयस्कों को कम से कम 7 घंटे या उससे अधिक की नींद की आवश्यकता होती है।


8. 61 से 64 साल: 61 से 64 साल के वृद्धों को प्रतिदिन 7 से 9 घंटे की नींद की आवश्यकता हो


नींद की कमी के प्रभाव आपके शरीर और मन पर


नापर्याप्त नींद आपके शरीर की क्षमता को सही ढंग से कार्य करने में कमी कर सकती है, जिससे विभिन्न स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। नींद की कमी को गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं से जोड़ा गया है जो हृदय, गुर्दे, रक्त, मस्तिष्क और मानसिक तथा मानसिक कुशलता को प्रभावित करते हैं।


इसके अलावा, अपर्याप्त नींद को बड़ों और बच्चों दोनों के लिए चोट के जोखिम के साथ जोड़ा गया है। उदाहरण के लिए, गाड़ी चलाते समय उन्मादता से गंभीर गाड़ी दुर्घटनाएं और मौत का कारण बन सकती हैं। बड़े वयस्कों में, खराब नींद की गुणवत्ता गिरने के साथ गिरने और टूटने के जोखिम से जुड़ा है।


नींद की कमी के कुछ विशेष परिणाम निम्नलिखित हो सकते हैं:

1. मूड के बदलाव

2. चिंता

3. डिप्रेशन

4. खराब याददाश्त

5. ध्यान और धारणा में कमी

6. मोटर क्षमता में कमी

7. थकान

8. कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली

9. वजन बढ़ना

10. उच्च रक्तचाप

11. इंसुलिन प्रतिरोध

12. अनियमित रोगों का जोखिम

13. पूर्वागामी मौत का जोखिम


कुल मिलाकर, सही नींद को प्राथमिकता देना शारीरिक स्वास्थ्य, मानसिक कुशलता और जीवन की गुणवत्ता को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण है।


Join IPI membership and get exclusive benefits for free- JOIN NOW


युवा भारतीय क्यों हो रहे हैं हार्ट अटैक के शिकार? READ HERE



INSIDE PRESS INDIA HINDI
INSIDE PRESS INDIA HINDI


4 दृश्य0 टिप्पणी

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें

댓글


bottom of page